Anderson: conditions at Lords were seam friendly even the home batsmen would not have survived | भारतीय बल्लेबाजों के बचाव में एंडरसन, बोले


लंदन. लॉर्ड्स टेस्ट दूसरे दिन 107 रन पर ढेर होने वाली टीम इंडिया का इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन ने बचाव किया। जिमी के नाम से मशहूर इस पेसर ने कहा- जिस तरह के हालात थे, अगर उसमें हम अपने बल्लेबाजों को भी बॉलिंग करते तो उन पर भारी पड़ते। भारत की पहली पारी में एंडरसन ने 20 रन देकर 5 विकेट लिए। पहले दिन का खेल बारिश की वजह से रद्द हो गया था। दूसरे दिन मौसम तेज गेंदबाजों के अनुकूल था। विकेट से उन्हें काफी मदद मिल रही थी। 

ऐसे हालात कम ही मिलते हैं

– खेल खत्म होने के बाद मीडिया से बातचीत में एंडरसन ने कहा- इस तरह की परिस्थितियां कम ही मिलती हैं। हमने सपाट विकेट भी देखे हैं, जहां गेंदबाजों को कोई मदद नहीं मिलती। इस पिच का मैंने भरपूर फायदा उठाया। 

– इंग्लैंड की गेंदबाजी के सामने भारतीय बल्लेबाजों के घुटने टेकने की आलोचना हो रही है। एंडरसन ने उनका बचाव किया। कहा, “मुझे लगता है कि इन हालात में अगर हम अपनी टीम के बल्लेबाजों को भी बॉलिंग करते तो उन पर भारी पड़ते। सच्चाई ये है कि हमने स्थितियों का बेहतरीन इस्तेमाल किया, ये कोई भी कर सकता था। आप ये नहीं कह सकते कि यहां सिर्फ भारतीय बल्लेबाज ही संघर्ष कर रहे थे। ये किसी के भी साथ हो सकता था।” 

विकेट पर घास थी

– एंडरसन ने विकेट की तारीफ की। कहा, “गेंदबाजी के लिहाज से हालात बेहतरीन थे। गुरुवार को बारिश हुई। पिच पर हल्की लेकिन हरी घास थी। विकेट में नमी थी। अगर फिर भी हम इन आदर्श स्थितियों का लाभ नहीं उठा पाते तो बहुत निराशा होती।” 36 साल के इस तेज गेंदबाज के मुताबिक वो अब भी बिल्कुल फिट हैं और इसी वजह से अच्छी गेंदबाजी कर पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर शरीर इसी तरह से साथ देता रहा तो वो लंबे वक्त तक खेलना जारी रखेंगे। 

– इंग्लैंड की तेज गेंदबाजी का दारोमदार अपने कंधों पर लेकर चलने वाले एंडरसन ने कहा, “मैं 28 या 32 साल का नहीं हूं लेकिन खुद को उम्रदराज भी महसूस नहीं करता। मुझे लगता है कि मैं अपनी टीम को अब भी काफी योगदान दे सकता हूं।”  



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *