Breaking News

ICC rejected PCB Appeal against BCCI for compensation of financial loss | आईसीसी ने बीसीसीआई से 500 करोड़ हर्जाना लेने की पीसीबी की अर्जी खारिज की


  • द्विपक्षीय सीरीज रद्द करने से हुए नुकसान की भरपाई के लिए पीसीबी ने मांगा था हर्जाना
  • आईसीसी ने अपने फैसले में कहा- फैसले को चुनौती नहीं दी जा सकेगी
  • अब बीसीसीआई मामले में खर्च राशि वसूलने के लिए मुकदमा दायर करेगा

Dainik Bhaskar

Nov 20, 2018, 04:53 PM IST

नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) से द्विपक्षीय सीरीज रद्द करने के बदले मुआवजे की मांग कर रहे पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) को बुधवार को क्रिकेट की सर्वोच्च संस्था अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की ओर से तगड़ा झटका लगा। आईसीसी ने बहस और सुनवाई के बाद उसकी अपील खारिज कर दी। आईसीसी की विवाद निस्तारण समिति ने बीसीसीआई से करीब 500 करोड़ रुपए के मुआवजे की मांग करने वाली पीसीबी की याचिका खारिज कर दी। बीसीसीआई इस मामले में खर्च हुई राशि वसूलने के लिए अब पीसीबी के खिलाफ मुकदमा दायर करेगा।

 

प्रस्ताव को करार साबित करने में जुटा था पीसीबी : विनोद राय

आईसीसी समिति ने कहा कि उसका यह फैसला बाध्य होगा और इसके खिलाफ अब और कहीं अपील नहीं की जा सकेगी। आईसीसी का फैसला आने के बाद बीसीसीआई की प्रशासकों की समिति (सीओए) के मुखिया विनोद राय ने कहा, ‘हमें खुशी है कि हमारा पक्ष सही साबित हुआ। पीसीबी सिर्फ एक प्रस्ताव को समझौता ज्ञापन (मेमोरैंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग) साबित करने में जुटा था।’  उन्होंने कहा, ‘मैं बीसीसीआई की लीगल टीम के साथ-साथ इस मुकदमे पर काम करने वाले सभी लोगों का भी शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। बीसीसीआई अब इस मामले में खर्च हुई राशि के लिए पीसीबी के खिलाफ मुआवजे की अर्जी दायर करेगा। हम आईसीसी के पैनल के समक्ष अपना पक्ष रखेंगे और पीसीबी से मुकदमे में खर्च हुई पूरी राशि की मांग करेंगे।’

 

बीसीसीआई चार साल पहले प्रस्ताव पर सहमत हुआ था

बीसीसीआई ने 2014 में एक प्रस्ताव पर सहमति जताई थी। इसके तहत 2015 से 2023 तक भारत-पाकिस्तान क्रिकेट टीमों के बीच छह द्विपक्षीय सीरीज खेली जानी थीं। बीसीसीआई ने आईसीसी में बिग थ्री राष्ट्रों (भारत, ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड) के प्रशासनिक बदलावों में अहम भूमिका के करार के हक में मतदान के बदले पाकिस्तान से द्विपक्षीय सीरीज को लेकर इस प्रस्ताव पर सहमति जताई थी। हालांकि, भारत और पाकिस्तान के बीच खराब संबंधों और सीमा पर तनाव के चलते राजनीतिक दबाव के कारण बीसीसीआई ने पीसीबी के साथ द्विपक्षीय सीरीज से इनकार कर दिया।

 

दो सीरीज रद्द होने के बदले पीसीबी ने मांगा था हर्जाना

इसके बाद पीसीबी ने करार का हवाला देते हुए अपनी मेजबानी में नवंबर 2014 और दिसंबर 2015 में होने वाली दो सीरीज के रद्द होने के कारण हुए नुकसान के लिए  करोड़ डॉलर के मुआवजे की मांग की थी। ऐसा नहीं करने पर उसने आईसीसी में बीसीसीआई के खिलाफ अपील कर दी। बीसीसीआई ने राजनीतिक कारणों का हवाला देते हुए पाकिस्तान के साथ खेलने से इनकार किया था।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *